April 17, 2024 New York

Posts

Leopard in Ajnara Le-Lawn Society

Leopard in Ajnara Le-Lawn Society

Lockdown in Society: ग्रेटर नोएडा वेस्‍ट स्थित अजनारा ली-गार्डेन सोसाइटी में लॉकडाउन जैसा माहौल है. ऐसा इस वजह से है, क्‍योंकि इस सोसाइटी में 2 हफ्ते से तेंदुआ छुपा है.

Leopard in Residential Society Ajnara Le-Lawn: करीब 1 हफ्ते होने जा रहे हैं, इस रेजिडेंशियल सोसाइटी में छोटे बच्‍चे और महिलाएं घरों में कैद हैं. ज्‍यादातर काम काजी लोगों ने डर के चलते वर्क फ्रॉम होम ले लिया है. जो लोग ऑफिस या जरूरी सामान खरीदने के लिए बाहर जा भी रहे हैं, उनकी फैमिली डरी हुई है. असल में जब बाहर पूरी तरह से अनलॉक है, ग्रेटर नोएडा वेस्‍ट स्थित अजनारा ली-गार्डेन सोसाइटी में लॉकडाउन जैसा माहौल है. ऐसा इस वजह से है, क्‍योंकि इस सोसाइटी में करीब 2 हफ्ते से जंगली तेंदुआ छुपा हुआ है. आज करीब 7वां दिन है, जब उसके लिए सर्च अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन वन विभाग की टीम अभी भी खाली हाथ है. हमारे सहयोगी सुशील त्रिपाठी जो सोसाइटी में रहते हैं, वह पल पल इस खबर पर नजर बनाए हैं.

लोगों में बढ़ता जा रहा है डर

जैसे जैसे सर्च अभियान लंबा हो रहा है, लोगों की परेशानियां बढ़ रही हैं, वहीं डर का माहौल भी बढ़ रहा है. असल में ऐसी खबरें आ रही हैं कि तेंदुआ कुछ और घंटे नहीं खोंजा जा सका तो वन विभाग की टीम लौट सकती है. असल में वन विभाग की टीम मेंबर्स में से कुछ को कहते यह सुना भी गया है कि तेंदुआ आकर लौट गया होगा. लोगों का कहना है कि इस तरह का माहौल बनाया जा रहा है कि अब सोसाइटी में तेंदुआ मौजूद नहीं है.

बिना सुरक्षा गारंटी नहीं लौट सकती है टीम

इसके बाद सोसाइटी के लोगों ने जमकर हंगामा किया. उनका कहना है कि वन विभाग की टीम बिना उनकी सुरक्षा की गारंटी लिए वापस नहीं लौट सकती है. उन्‍हें यह लिखकर देना होगा कि सोसाइटी में कोई जंगली जानवर नहीं है और सुरक्षा की गारंटी के साथ टीम लौट रही है. इस बारे में हमने डीएफओ प्रमोद श्रीवास्‍तव से बात करने की कोशिश की, लेकिन बात नहीं हो पाई. गौतम बुद्ध नगर के एसडीएम आलोक कुमार गुप्‍ता से भी संपर्क नहीं हो पाया.

2 हफ्ते से मौजूद है तेंदुआ

ग्रेटर नोएडा की सोसायटी अजनारा ली गार्डेन में हमारे सहयोगी सुशील त्रिपाठी रहते हैं, उसमें तेंदुआ होने की खबर 2 हफ्ते पहले वायरल हुई थी. लेकिन तब सर्च अभियान की खाना पूर्ति कर छोड़ दिया गया. लेकिन 3 जनवरी 2023 को सोसायटी के अंदर तेंदुआ मौजूद होने का वीडियो जब वायरल हुआ, तब जाकर प्रशासन एक्टिव हुआ. फिर वन विभाग की टीम तेंदुए को पकड़ने के लिए बुलाई गई. लेकिन वन विभाग की टीम अबतक खाली हाथ है.

आधा अधूरा काम बना मुसीबत, कौन हटाएगा कबाड़

तेंदुए को पकड़ने में सबसे ज्‍यादा मुसीबत यह आ रही है कि सोसाइटी का बड़ा हिस्‍स अंडरकंस्‍ट्रक्‍शन है. बेसमेंट, जहां उसके छुपे होने की खबर है, उसमें कबाड़ बहुत ज्‍यादा है. वन विभाग की टीम का कहना है कि कबाड़ के चलते उसे खोजना मुश्किल हो रहा है. लेकिन खबर लिखे जाने तक बिल्‍डर या किसी अन्‍य आथॉरिटी की ओर से कबाड़ हटाने की जिम्‍मेदारी किसी ने नहीं ली है.

सोसाइटी में अलर्ट, लोग घरों के अंदर

सोसायटी के लोग दहशत में हैं और घरों से बाहर नहीं निकल रहे. बेसमेंट के एरिया को सील कर दिया गया है. वहीं सर्च अभियान चलाया जा रहा है. ग्राउंड फ्लोर पर पार्क यानी पोडियम की ओर जाने वाले दरवाजे बंद हैं. लोग अपनी अपनी बालकनी से रेस्‍क्‍यू अभियान देख रहे हैं और तेंदुए के पकड़े जाने की दुआ कर रहे हैं. ऐसी खबर भी है कि तेंदुआ मादा है और वह गर्भवती भी है. ऐसे में लोग यह भी दुआ कर रहे हैं कि रेस्क्यू के दौरान उसे कोई नुकसान न हो और वह सुरक्षित पकड़ी जाए.

तेंदुए के साथ हो चुका है आमना सामना

सर्च टीम का तेंदुए के साथ आमना-सामना भी हो चुका है. ऐसा टीम के साथ गए एक सोसाइटी मेंबर ने भी जिक्र किया है. इसका भी एक वीडियो वायरल हुआ है. उस दौरान तेंदुआ अंडरकंस्‍ट्रक्‍शन एरिया में रखे कबाड़ में छिपा था. लेकिन जब उस पर लाइट पड़ी तो वहां से भाग गया. लोगों का कहना है कि जब आमना सामना हुआ है तो उसे बिना पकड़े टीमू कैसे जा सकती है.